श्री श्री गौर-नित्यानंदेर् दया

Śrī Śrī Gaura-Nityānander Dayā (in Hindi)

परम कोरुण, पहू दुइ जन,
निताइ गौरचंद्र
सब अवतार-सार शिरोमणि,
केवल आनंद-कंद

भजो भजो भाइ, चैतन्य निताइ,
सुदृढ बिश्वास कोरि’
विषय छाडिया, से रसे मजिया,
मुखे बोलो हरि हरि

देखो ओरे भाइ, त्रि-भुवने नाइ,
एमोन दोयाल दाता,
पशु पाखी झुरे, पाषाण विदरे,
शुनि’ जान्र गुण गाथा

संसारे मजिया, रोहिलि पोडिया,
से पदे नहिलो आश
आपन करम, भुञ्जाये शमन,
कहोये लोचन-दास

ध्वनि

  1. श्री अमलात्म दास तथा भक्त वृन्द- इस्कॉन बैंगलोर